सुनो मेरी भाषा | हर्षिता पंचारिया

पता नहीं कितने तरीके
ईजाद किए है मनुष्य ने
तुम्हें समृद्ध बनाने के लिए |

हर कोस पर तुम्हारा
स्वरूप बदला है
पानी के साथ
पर स्मरण रहे
तुम्हारे ईश्वर ने
तुम्हारी आत्मा
को उतना ही छला है
जितना अँधेरा छलता है
रोशनी को ।

छिली हुई भाषा परिष्कृत नहीं होती
बस असभ्यता की मोहर का ठप्पा
लिए एक ज़ुबान से दूसरी ज़ुबान
पर स्थानांतरित होती रहती है ।

सुनो मेरी भाषा,
यदि कभी मेरा लहजा असभ्य हो
तो तुम मेरे ईश्वर तक मत पहुँचना ।
क्योंकि
मेरा ईश्वर तुम्हारे
ईश्वर सा छली नहीं है ।।

हर्षिता पंचारिया

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s