इस पगले लड़के का साथ मुझसे कभी न छूटने देना | पल्लवी

लड़का उस रोज़ सरप्राइज़ देने अचानक लड़की के घर चला आया था ! लड़की के कमरे का दरवाज़ा खुला था और लड़की अपने बैड पर औंधी लेटी कुछ लिख रही थी ! लता की आवाज़ में अपनी आवाज़ की गुनगुनाहट घोलती लड़की लिखने में इतनी तन्मय थी कि उसे लड़के के आने की भनक भी न हुई और लड़का दबे पाँव उसके पीछे आकर खड़ा हो गया !

‘कमबख्त कितना प्यारा गाती है..जब गाने को बोलो तब सौ नखरे करती है ‘
लड़के का ध्यान लता की जादुई आवाज़ पर कम और अपनी चिड़िया की सुरीली चहक पर ज्यादा था !

‘अपने आप रातों में चिलमनें सरकती हैं
चौंकते हैं दरवाज़े सीढियां धड़कती हैं …’
लड़की गाते-गाते एकदम पलटी और लड़के को देख चौंक गयी !

‘दरवाजों को ही चौंकने दो मेरी जान , तुम्हें तो मेरी आहट मेरे दिल की धडकनों से ही मिल जानी चाहिए ‘ लड़का शरारती मूड में था !

” फोन क्यों नहीं किया आने से पहले ?

‘फोन करता तो कैसे जान पाता कि मेरी चिड़िया क्या लिखा करती है अपनी डायरी में ” लड़के ने डायरी की ओर निगाहें जमाये कहा !
लड़की ने झट से डायरी बंद कर ली ‘ यूं किसी की पर्सनल डायरी पढना बैड मैनर्स होते हैं ”
सौरी … अब नहीं पढूँगा ! वैसे भी अब तक मैंने एक शब्द भी नहीं पढ़ा है ! लड़के ने अपने कान पकड़े !
” पगलू कहीं के ! तुमसे क्या छुपाना भला ? जब दिल पूरा तुम्हारे सामने खोल दिया तो ये डायरी क्या चीज़ है , लो पढ़ लो !

लड़का डायरी में खूबसूरत रायटिंग में लिखी पंक्तियाँ पढ़ रहा है –
“हम एक साथ समन्दर के पीछे डूबते सूरज को देखेंगे, हम एक साथ सिहरती रातों में छत पर लेटे चांदनी को घूंट-घूंट पियेंगे, हम एक साथ ‘पी एस आई लव यू ‘ देखते हुए रोयेंगे, हम एक साथ देर रात मेंहदी हसन की ग़ज़लें सुनेंगे ,हम एक साथ उस छोटे से सकोरे में बुलबुल को छप-छप नहाते देख मुस्कुरायेंगे,हम एक साथ एक दूसरे के ऊपर अधलेटे पड़े कोई प्रेमकथा पढ़ेंगे । हम एक साथ किसी बच्चे को थपकियाँ देकर सुलायेंगे।
हम इस हसीन साथ पर खामोशी की चादर डाल देंगे। ये जो सांस की लय पर धड़कनों का चढ़ना उतरना है ना … ये दिल की सबसे ईमानदार भाषा है !
प्रेम में कभी यूं भी साथ होना साथी ! … आंखों से बतियाना,मद्धम-मद्धम साँसों से गुनगुनाना। ”

लड़की ने जोर-जोर से उसकी ख्वाहिशें पढ़ते हुए लड़के को अपनी बाहों में लपेट रखा है !
“सुनो ..तुम भी अपनी ख्वाहिशें लिखो ना इस डायरी में ” लड़की ने लड़के के कान के पास हौले से चूमते हुए कहा है !
लड़का एक बार उसे देख मुस्कुराया है और उसने डायरी में आगे लिखना शुरू किया है
” हम वो सब करेंगे जो तुमने लिखा है , और वो भी जो तुमने कहीं नहीं लिखा है बस सोचा भर है और वो भी जो आगे तुम सोचोगी ! मेरी बस यही ख़्वाहिश है कि तुम्हारी हर ख़्वाहिश पूरी करूँ ! ”

लड़की की पकड़ और मज़बूत हो गयी है लड़के के गिर्द ! लड़का मोबाइल में कुछ कर रहा है !
“तो चलें ?” लड़के ने मोबाइल एक तरफ रखते हुआ कहा !
” कहाँ? ”
“तुम्हारी पहली ख़्वाहिश पूरी करने ! कल की गोआ की टिकिट बुक करवा ली है जानेमन ! कल का सूर्यास्त वहीँ देखेंगे ! ”
“गज़ब फास्ट हो बॉस तुम तो ..आई एम इम्प्रेस्ड ”

तो चलें ? ” लड़के ने दोबारा पूछा है !
“अब कहाँ ?”
“छत पर .. तुम्हारी दूसरी ख़्वाहिश पूरी करने ! आज शरद पूनम की रात जो है ! एक साथ चांदनी को घूँट-घूँट पीने की रात !’
लड़का बहुत प्यार से मुस्कुराया है ! लड़की ने लड़के की गर्दन को चूमा है और आँखें बंद कर एक और ख़्वाहिश ख़ुदा की सिम्त उछाली है-

” ए ख़ुदा … इस पगले लड़के का साथ मुझसे कभी न छूटने देना ”

——–पल्लवी

#लवनोट्स

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s