ईरानी फ़िल्म ‘बरन’ -2001 पर अमर दलपुरा की टिप्पणी

युद्धग्रस्त अफगान के शरणार्थी ईरान में सस्ते श्रम पर काम करते है. जिनके पास परिचय पत्र भी नही है. लतीफ़ , निर्माण कार्य में लगे श्रमिको के लिए चाय और खाना परोसता है. और छोटी- छोटी बातों में गुस्सा करता है. रहमत की उम्र 14 साल है, ज्यादा भारी कार्य नही कर सकता इसलिए मेमार लतीफ के कार्य को रहमत को दे देता है. लतीफ़ बदले की भावना से भर जाता है. एक दिन लतीफ देखता कि रहमत आईने में बालों संवार रहा है. वह देखता है कि ये लड़का नही, लड़की है. उस दिन से लतीफ के व्यवहार में अजीब परिवर्तन होता है. रहमत का असली नाम baran है. जिसका भाई अफगानिस्तान में युद्ध मे मारा गया. माँ बीमार है. वह पिता के साथ ईरान में है. वे वापस घर जाना चाहते है. लतीफ़ परिचय- पत्र बेचकर उनकी मदद करता है. लतीफ और बारां, दोनों एक दूसरे भावनाओं को शब्द नही दे पाते. फ़िल्म के अंत में बारिश हो रही है. ट्रक में सामान रखा जा गया. Baran भी जा रही है. बारिश में जूता खुल गया . लतीफ जूता उठाता है. Baran अपने पैर को डालती है. वे दोनों एक दूसरे को पहली बार इतने करीब से देखते है. और ट्रक चल देता है. लतीफ बारिश में जूते के निशान को देखता….😢

इस फ़िल्म का लेखन और निर्देशन माज़िद मजीदी ने किया. बहुत कम बजट में बेहद शानदार फिल्मे बनायी है. मैं उनकी तीसरी फिल्म देख रहा हूँ. आप देखना चाहते है. इंग्लिश subtiles के यूट्यूब पर उपलब्ध है.

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s