आइसोलेशन के अंतिम पृष्ठ |प्रतिभा शर्मा

आइसोलेशन के अंतिम पृष्ठ
(श्रमिक)
अप्रैल के नंगे-नीले दरख्तों और टहनियों से प्रक्षालित
ओ विस्तृत आकाश !
अपने प्रकाश के चाकुओं से
मुझ पर नक्काशी करो…
सम्बोधन हे ! अरे !
(1)
हम अपनी कल्पनाओं में छोटी-छोटी टपकन सुनते हैं
रात अपने चाँदी के नल से चुपके से टपकती रहती है
हम पाँवों के बल
टपकन की एकाग्रता में एक गीत गुनते हैं..
क्रूर अप्रैल में शहर भी सारे क्रूर हो गये
इससे पहले कि वे हमारा भख ले लें
हमने ही उनको छोङ दिया
(2)
भोर में आसमान के शीशे में हम हमारा चेहरा धोते हैं
हवाओं से आचमन करते हैं
पीली,झुलसती पत्तियों से दातुन करते हैं
आँसुओं की क्रीम से गालों को चमकाते हैं
एक संपीङित क्रोध से आँखों को आंजते हैं
आँखों में उभरे लाल डोरों से काली डामर की लम्बाई मापते हैं
हमने कंघी नही करी
चमेली का तेल व काठ की कंघी
माँ के सिरहाने ताखी में पङी है
हम अपने पट्टे पहुँच कर ही जमायेंगे
हम माँ से मिलने जा रहे हैं
(3)
माँ बिहार में कोसी के दलदल में रहती है
पुरूलिया में घुटनों तक पानी में धान रोपती है
थार के एक झोंपे में गोबर से चूल्हा लीपती है
शेखावाटी के दूर-दराज के
पीपल गट्टे पर प्याऊ चलाती है
माँ तेरे लिए सूरत का डायमंड तो नही
डायमंड जैसा मन लेकर आ रहे हैं
(4)
यह ज्येष्ठ की दुपहरी
वसंत जैसी नही खुलती माँ
हम आक्खा दिन डामर पर चलते हैं
और
गृहस्थी को सिर पर चक कर रखते है
(5)
कुछ तेरे लिए माँ,कुछ अपाहिज भाई के लिए
हम कुछ-कुछ बचे हुए हैं
तेरी बहू पेट से है
कोख में ही अभिमन्यु सरीखा है
(For the womb may be either male or female)
पर कौरव पक्ष की गारंटी कौन लेगा
कभी के अठारह दिन समाप्त हुए
अठारहवीं रात्रि बीते कितने ही दिन बीत गये
और कितना चलेगा यह युद्ध?
कृष्ण तुम समाप्ति का शंखनाद क्यों नही कर लेते ?
मेरी माँ तो तेरी परम भक्त है
तुझे छाँटणा छिङके बगैर
वह चा की एक टीपरी हलक से नही उतारती
(6)
हमारे चारों ओर बादल उङते हैं
कपास के नही
छालों के
मरहम के बादल
चीलगाङियों के लिए संरक्षित हो गये
(7)
हमारे अनजाने शरीर कीचङ से ढँक गए
जैसे हम कोकून पहनकर चल रहे
हम उस परिवर्तन को जोह रहे
जो उस तितली को नसीब है
जिसके रंगों की कल्पना से
हमारी पीठ पर पँख उग आए हैं
अब हम फफोलों वाली पगथलियों से नही
रंग-बिरंगे पंखों से उङकर
आ रहे हैं माँ
(8)
हमारे पीछे
तीन मूक-बधिर लुगाइयाँ भी है
उनकी आँखों में
उनकी पेट की भूख मर गई है
पर वे जिंदा है
नागिन सी डामर का काला रंग
उनके कोयों में उतर आया है
सपाट मील से लेकर असीम सफेद आसमान तक
हम सब ध्यान से चबा रहे तपता सूरज
पानी की तरह पी रहे मातम
जब रात के सितारे हमारे बदन पर सुइयां चुभोते है
हम उन्हें तोड़कर दर्द-निवारक गोलियां बना
बेबसी के थूक संग निगल जाते हैं
(9)
दूर से चिलचिलाती पुलिस की गाङी
नजदीक आते-आते
एक दीवार घङी बन जाती है
जो अपने डंके ठीक राइट-टेम पर बजा देती है
मै चाहता था
वे अपने हाथों के गुलदस्ते हमें सौंप जाते
हम गेंदें और गुलाब सूंघ लेते
कुछ हद तक तो प्यास शांत हो जाती
(10)
यह ऐसा है
जैसे हमें एक काँच के वातावरण में उतारा गया है
एक टिप्पणी
काँच की सतह पर
पानी की बूँद की तरह रेंगती है
और हमारे वातावरण को
धुंधला कर देती है
(11)
सङक किनारे
मै मरी हुई पत्तियों को समतल भूमि पर
टिके हुए देख सकता हूँ
और झाड़ियों की गंदगी को
कंक्रीट के टुकड़ों के बीच
जहाँ जमीन अवसाद में चली जाती है
और कंक्रीट का पिघलना शुरू हो जाता है
जिनसे काला-गाढा मवाद रिसता है
(12)
मेरी व्यग्रता
अब पहिए की तरह है
जो ढलान पर लुढकता है
आज दिन ढलते
गोधूलि वेला में
हम ड्योढ़ी को छू लेंगे
मै रगङता हुआ
घुटनों के बल गिर जाता हूँ
सुबकता
यह एक एस्पिरिन के जैसा है
जिसे सिर्फ हमारी रगें जानती है
दुख की एक लम्बी प्रक्रिया है
एक लम्बी यात्रा
फफक कर गिर पङना
इसके मील के पत्थर हैं
मैने हाथ फैला लिए
उस गाँव की ओर
जिसके झोंपों के आकाश में
फोग के धुएं के बादल उठ रहे

परिचय- प्रतिभा शर्मा युवा कवयित्री है। वर्तमान में सरकारी सेवा में कार्यरत है। वर्ष 2018 में राजस्थान साहित्य अकादमी द्वारा चयनित व प्रकाशित काव्य संग्रह “मौनसोनचिरी पर वर्ष 2019 में डॉ रामप्रसाद दाधीच सम्मान से सम्मानित किया गया।

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s